मेरा बचपन मेरी मम्मा की नज़र से...

Thursday, October 7, 2010

थोड़ी सी कसरत और ढ़ेर मज़ा ..............अनुष्का

सभी बड़े लोग कहते है व्यायाम करने से शारीर में चुस्ती फुर्ती बनी रहती है और हम बच्चों के लिए तो यह और भी अच्छा है . यह न सिर्फ हमें आनन्द देता है बल्कि हमारे शारीरिक विकास में भी बहुत सहियोगी है . कसरत हमारे बदन को गठीला बनती है और सम्पूर्ण विकास करती है .
मैं तो ऐसा समय कभी नहीं गावती ........जब भी मौका मिला शुरू . हमारे बड़ो के लिए यह कसरत है हमारे लिए तो खेल ही है .


बाउंसिंग फ्लोर पर जम्प


अब थोड़ी मेहनत और हो जाए


अभी मंजिल दूर है 

क्लाइम्बिंग में भी हमें डर कहा ...

ये गोच्चा ......पहुच ही गए अब तो 

ये भागी पुल से टनल की और 


है न कसरत की कसरत और मज़े का मज़ा   

मगर मुझे ट्रेक करने में पापा की हालत ख़राब हो जाती है :)

10 comments:

संजय भास्कर said...

थोड़ी मेहनत
कसरत की कसरत और मज़े का मज़ा

संजय भास्कर said...
This comment has been removed by the author.
संजय भास्कर said...

anuska beti lage raho......

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

सही है...अच्छी सेहत के लिए कसरत करना ज़रूरी है...
और हां, इसी तरह पढा़ई में भी मेहनत की जाती है...तभी सफ़लता मिलती है.

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

वाह खूब कसरत हुयी ..पापा के क्या हाल हुए होंगे ..:) यही सोच रही हूँ ..

माधव( Madhav) said...

spiderman act

Arvind Mishra said...

अरे वाह अजब गजब कसरत -सर्कस से कम नहीं

अजय कुमार झा said...

अरे वाह अनुष्का बिटिया की कसरत तो वाकई कमाल रही

Akshita (Pakhi) said...

..यहाँ तो खूब मस्ती हो रही है.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

इस मनोरंजक ब्यायाम के लिए शुभकामनाएँ!
--
आपकी सुन्दर पोस्ट री चर्चा तो बाल चर्चा मंच पर भी लगाई गई है!
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/10/22.html