मेरा बचपन मेरी मम्मा की नज़र से...

Tuesday, October 19, 2010

मैंने भी देखा रावण दहन ---------------अनुष्का

दशहरे के दिन शाम को मम्मी पापा के साथ मैं यहाँ पास के मंदिर गई ......जहाँ आस पास रहने वाले सभी हिन्दुस्तानियों ने मिलकर रावण दहन का आयोजन किया था. रावण थोड़ा छोटा था लेकिन यहाँ आतिशबाजी और इस तरह के आयोजनों की अनुमति नहीं होती...इसके लिए स्पेशल परमिशन की ज़रूरत होती है . मम्मी बता रही थी न्यू  जर्सी में जहाँ हम रहते थे वहाँ और भी बड़ा रावण बनाया जाता है, पर मैंने तो यहाँ भी आनन्द लिए ....
अंकल लोग रावण के पुतले में पटाखे लगा रहे है

मेरे जैसे बहुत से बच्चे बहुत उत्साह से देख रहे थे सब कुछ 

ये दशानन 

ये हुआ दहन 
 
  
देखिये यहाँ के रावण दहन का छोटा सा दृश्य

video

11 comments:

यश(वन्त) said...

Dear Anushka,

Achha laga ye jaankar ki yahan se saat samundar paar bhii tum ko vo sab achha dekhne ko milta hai jo tumhaare apne desh me hota hai.

isi tarah hansti -muskurati-khelti raho.

God Bless!

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

विजयदशमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

KK Yadava said...

बहुत खूब...अच्छी-अच्छी प्यारी-प्यारी बिटिया रानी को ढेर सारा प्यार.

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

बहुत अच्छा है कि वहां रावण छोटा है...
यहां तो इतने बड़े बडे़ रावण हैं, कि बस रामजी ही बचाएं...हा हा हा
बहुत अच्छा लगा अनुष्का, वहां भी तुम्हें अपनी संस्कृति और त्यौहारों के बारे जानने का मौका मिल रहा है...
तुम्हें भी अच्छा लगा है ना.

shikha varshney said...

वाह अनुष्का ! मजा आया न:) यहाँ रावण नहीं जलाते:(

चैतन्य शर्मा said...

wah anushka.... khoob enjoy kar rahi ho sab festivals ko....

रानीविशाल said...

@ शिखा मौसी तो हम दोनों मिलकर इस बार से यह तय कर लेते है कि अब से दीपावली पर हम लन्दन आपके पास आजाया करेंगे,जो वहाँ अच्छी होती है ... और दशहरा आप यहाँ हमारे साथ मनाया कीजियेगा :D

Akshita (Pakhi) said...

..यहाँ अंडमान में भी रावण नहीं जलाते. पर दुर्गा पूजा भव्य होती है.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत-बहुत बधाई हो!
--
वीडियो और चित्र बहुत ही बढिया हैं!
--
आपकी पोस्ट को बाल चर्चा मंच में लिया गया है!
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/10/24.html

Pankhuri Times said...

अरे ये रावण तो हमने भी जलाया था , ये वहाँ कैसे पहुँचा ?

संजय भास्कर said...

..........वाह अनुष्का !