मेरा बचपन मेरी मम्मा की नज़र से...

Thursday, September 16, 2010

मछली जल की रानी है { मेरी हिंदी अंग्रेज़ी कवितायेँ }

इस ब्लॉग पर मेरे जन्म से लेकर अब तक का मेरा सुहाना सफ़र जो चल रहा है उसी के बिच बिच में कभी कभी मैं आपको अपनी अपडेट्स भी बताती रहूंगी ....ताकि आप सभी मेरे अभी की प्रोग्रेस भी जान सके ।
अब आपको एक अच्छी बात बताऊँ..... मुझे ना मम्मी ने बहुत अच्छी अच्छी हिंदी और अंग्रेजी की कुछ कवितायेँ सिखाई है, जिन्हें मैं बहुत शौक से गाया करती हूँ । उनमे से कुछ आज आपको भी सुनती हूँ देखिये ....


13 comments:

ओशो रजनीश said...

बढ़िया ,,,,..

इसे भी पढ़े :-
(आप क्या चाहते है - गोल्ड मेडल या ज्ञान ? )
http://oshotheone.blogspot.com/2010/09/blog-post_16.html

गिरीश बिल्लोरे said...

वाह संस्कार बोती मेरी बहना को प्रणाम

गिरीश बिल्लोरे said...

अनुष्का मामा साब का असीम स्नेह

Udan Tashtari said...

अरे वाह!! बड़ा बढ़िया गाना सीख गई है...शाबास!

Coral said...

बहुत सुन्दर....खुपच छान....
आज अनुष्का के बहाने चिन्मयी कि पुरानी बाते याद आ गयी वो भी इसे गाती थी थोडा ...सा अलग

मछली जल कि नानी है
जीवन उसका पाजी है ....

________
इसे भी पढ़े :- मजदूर

http://coralsapphire.blogspot.com/2010/09/blog-post_17.html

संजय भास्कर said...

अनुष्का मामा साब का असीम स्नेह

निर्मला कपिला said...

ानुष्का नानी का प्यार और आशीर्वाद भी ले लो। हमेशा इसी तरह हंसती मुस्कुराती और गाती रहो। आशीर्वाद।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

:) :) ..बहुत बढ़िया प्रोग्रेस है ...

लेकिन इतनी देर एक जगह बैठीं कैसे ?

Roshani said...

बहुत बढ़िया :)

sada said...

बहुत ही बढि़या, बस यूं ही आगे बढ़ती जाओ ।

रंजन said...

बहुत प्यारी.. बिल्कुल ऐसे हो गाता है आदि भी..

माधव said...

सुन्दर

ताऊ रामपुरिया said...

वाह बहुत ही सुंदर गाया अनुष्का ने, तालियां और बधाईयां.

रामराम.