मेरा बचपन मेरी मम्मा की नज़र से...

Thursday, September 16, 2010

आगया जलवा और सूरज पूजन का दिन --------------अनुष्का

जैसे जैसे मैं बड़ी हो रही थी सबको अच्छे से पहचानने भी लगी, अब तो मैं सबकी बातों में भी शिरकत करती....हूँ हूँ कर कर के । जब सभी लोग मुझसे बहुत सारी बातें करते तो मुझे भी बड़ा मज़ा आता ।


एक दिन दादू दादी ने कहा आज अनुष्का ४० दिन की हो गई है । इण्डिया से दादी माँ (पापा की दादी ) ने कहा है कि आज जलवा और सूरज पूजन करना है । दरसल दादी तो जब में १३ दिन की हुई थी तब ही यह पूजन रखना चाहते थे लेकिन मम्मा के स्वास्थ्य में सुधार नहीं हो पा रहा था इसीलिए तब नहीं की ...दादी अक्सर पापा को कहती कि ये सिर्फ मेरा ही जन्म नहीं था । मम्मा का भी दूसरा जन्म था इसीलिए पुराने ज़माने मैं बुज़ुर्गों ने इस पूजन का रिवाज़ बनाया ताकि बच्चे के जन्म के बाद माँ को स्वास्थय लाभ लेने का सही समय मिल सके । इस पूजन के बाद ही मम्मा अब रसोई में काम भी करेगी और बहार आना जाना भी शुरू हो जाएगा ....आखिर अब मुझे भी तो बहार घूमना है न ।
जलवा
पूजन में वैसे तो बाकायदा कुँवें पर जाकर जल पूजन किया जाता है पर यहाँ तो मम्मा ने जल से भरे कलश की ही पूजन की और सूर्य देव का दर्शन पूजन किया .....कहते है माँ यशोदा ने भी कृष्ण जन्म के बाद यह पूजन किया था । इसी दिन बच्चे का पालना भी सजाते है । यहाँ तो दादू दादी ऐसा न कर सके पर जब में इंदौर गई तो उन्होंने मेरे लिए पालना डाला था और उधर रावटी में डैडीजी (नानाजी ) ने भी ...


मैंने भी सुन्दर नए कपड़े पहने और सबने दादी के हाथों बने स्वादिष्ट पकवान खाए लेकिन मैंने नहीं ......मैं तो अभी छोटी हूँ न कुछ खा नहीं सकती ।


एक और मजेदार बात यह हुई कि दादू ने मेरी जन्मकुंडली बना कर मेरा जन्म नाम मीनाक्षी रखा और बताया कि मैं बड़ी होकर गवर्नर बनूगी ...उन्हें कुंडली देखना अच्छा लगता है ।





वो अक्सर खाली समय में मम्मा-पापा और चाचू कि कुंडली देख कर मज़ेदार बातें बताया करते ...इधर मुझे तो बड़े होने में बहुत मज़ा आरहा है


चित्रों में पापा के साथ दिखाई देने वाले चाचू पापा के परम मित्र है .....उन दिनों ये और पापा एक साथ एक ही कंपनी में एक ही प्रोजेक्ट पर काम कर रहे थे । चाचू का अपना यहाँ कोई ना था तो वो हमारे ही साथ रहते थे । वो भी मुझे बहुत बहुत प्यार करते है ....एक और मज़े की बात ये है कि इनका भी नाम विशाल है जो मेरे पापा का नाम है । अब तो चाची आगई है ....वो भी मुझे चाचू की तरह बहुत प्यार करती है । उनसे फिर कभी मिलाऊँगी ....

14 comments:

'अदा' said...

सुन्दर..अतिसुन्दर..
बहुत आशीर्वाद...!

Sunil Kumar said...

पुरानी यादों को ताजा कर लिया आपने , आशीर्वाद

ajit gupta said...

भावी गवर्नर अनुष्‍का से मिलकर बेहद खुशी हुई। जलवा पूजन की भी शुभकामनाएं।

रंजन said...

वाह वाह.. पुरी कहानी फास्ट फोरवर्ड में चल रही है.. अच्छा लग रहा है..

प्यार..

निर्मला कपिला said...

बहुत बढिया चल रहा है तुम्हारा सफर। आशीर्वाद।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत अच्छा लग रहा है तुमसे मिलना ...:):)

माधव said...

कहानी अच्छी लग रही है , आगे क्या होगा इन्तेजार रहेगा
वैसे मेरी मम्मी का नाम मीनाक्षी है

Akshita (Pakhi) said...

मैं बड़ी होकर गवर्नर बनूगी....अभी से शुभकामनायें...
________________________________
'शुक्रवार' में चर्चित चेहरे के तहत 'पाखी की दुनिया' की चर्चा...

श्रीमती अमर भारती said...

बिटियाँ लगतीं कितनी प्यारी।
यह होती हैं राजदुलारी।।

हमारीवाणी.कॉम said...

वाह!




हमारीवाणी को और भी अधिक सुविधाजनक और सुचारू बनाने के लिए प्रोग्रामिंग कार्य चल रहा है, जिस कारण आपको कुछ असुविधा हो सकती है। जैसे ही प्रोग्रामिंग कार्य पूरा होगा आपको हमारीवाणी की और से हिंदी और हिंदी ब्लॉगर के साथ-साथ अन्य भारतीय भाषाओँ और भारतीय ब्लागर के लिए ढेरों रोचक सुविधाएँ और ब्लॉग्गिंग को प्रोत्साहन के लिए प्रोग्राम नज़र आएँगे। अगर आपको हमारीवाणी.कॉम को प्रयोग करने में असुविधा हो रही हो अथवा आपका कोई सुझाव हो तो आप "हमसे संपर्क करें" पर चटका (click) लगा कर हमसे संपर्क कर सकते हैं।

टीम हमारीवाणी

आज की पोस्ट-
हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

आज आपका एक और नाम मालूम हुआ...
मीनाक्षी...ये कितना अच्छा है ना.

संजय भास्कर said...

पूजन की भी शुभकामनाएं।

Kailash C Sharma said...

very sweet...

minakshi pant said...

आप से मिलकर बहुत ख़ुशी हुई !