मेरा बचपन मेरी मम्मा की नज़र से...

Wednesday, November 10, 2010

स्कूल चले हम -------------अनुष्का

रेडी फॉर स्कूल

बाय बाय ममा
खेल कूद , मौज मस्ती के साथ साथ पढ़ाई लिखाई भी बहुत ज़रूरी होती है ....ऐसा सभी बड़े कहते है . अब मैं थोड़ी बड़ी भी हो गई हूँ इसलिए पिछले साल से मम्मी ने मुझे प्री स्कूल भेजना शुरू किया है. स्कूल की बात निकली है तो मैं आपने सबसे पहले स्कूल "किडी एकेडमी" (लॉन्ग आईलेंड ) कैसे भूल सकती हूँ ....

किडी एकेडमी (लॉन्ग आईलेंड ) में मेरा लास्ट डे
सबके लिए स्कूल बस पढ़ने की जगह होगी लेकिन मैंने वहाँ बहुत मज़े किये है . मेरी सारी टीचर्स मुझे बहुत बहुत प्यार करती थी बहुत ध्यान रखती मेरा.मुझे बहुत अच्छा क्राफ्ट कराती  थी. प्यारी प्यारी पोयम्स भी सिखाती  .....सभी फ्रेंड्स भी बहुत अच्छे थे. हम सब बहुत मिलजुल कर रहते थे .
मेरी बेस्ट फ्रेंड 
  
मेरी बेस्ट फ्रेंड

मीस मोरीसा जिन्हें मैं अब तक नहीं भूली


एक साथ लंच करते , एक साथ नेप लेते लेकिन पापा का प्रोजेक्ट चेंज हो गया और हम यहाँ लॉस एंजेलिस चले आए यहाँ मैंने २ महीने का समर केम्प लिटिल बेबी जिम में लिया उसके बाद स्कूल .अब मैं यहाँ नए स्कूल में जाती हूँ. मेरे नए स्कूल का नाम सेंट अब्राम प्री स्कूल है .....यहाँ भी मेरी टीचर मिस एंडी बहुत अच्छी है मेरा अच्छे से ख्याल रखती है और हर रोज़ एक नई कहानी सुनाती है (उनकी तस्वीर हेलोवीन सेलिब्रेशन के दिन वो मेरे साथ थी )और मैं पेन्सिल पकड़ना भी सिख गई हूँ ...अब टीचर मुझे स्कूल में राईटिंग की प्रेक्टिस भी कराती है ....वैसे मुझे कलर करने में ज्यादा मज़ा आता है. स्कूल जाना मुझे बहुत पसंद है. ममा की परेशानी तो अक्सर बढ़ जाती है वीकेंड में जब मैं स्कूल जाने की जिद्द कर बैठती हूँ ...


 एक दिन स्कूल से आते वक्त ममा से हमारी ठन गई ...जाते ही वीडियो गेम खेलने के लिए ममा न मानी तो हम अंगद ही बन गए :)                          
घर पर ममा पापा भी कुछ न कुछ सिखाते ही रहते है ...अब कल आपको मैं दिखाउंगी अपना राइटिंग वर्क ......!!!

9 comments:

यश(वन्त) said...

अनु!बहुत अच्छा लगा जान कर कि तुम को स्कूल जाना अच्छा लगता है और बड़े भी बिलकुल ठीक कहते हैं;खेल के साथ पढ़ाई तो ज़रूरी है ही.
खूब आगे बढ़ो और खूब नाम कमाओ.

चैतन्य शर्मा said...

स्कूल शुरू... अरे वाह यह तो अच्छी खबर है....स्कूल जाने में तो मुझे भी बड़ा मज़ा आता है.....

महेन्द्र मिश्र said...

खेलकूद के साथ पढ़ाई भी जरुरी है .अच्छी खबर है... आपके फोटो अच्छे लगे .....

sada said...

अरे वाह ...बहुत ही अच्‍छी बात है यह तो ...आपको पता है यही काम तो सबसे ज्‍यादा जरूरी है ...।

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

बहुत अच्छी लग रही हो..स्कूल जाते हुए तो और भी प्यारी लगी हो...
आज आपको एक शेर सुनाएं अनुष्का..
प्यारे बच्चो इल्म को सीखो
कुछ हासिल हो जाएगा
आज ये मुश्किल काम नहीं है,
कल मुश्किल हो जाएगा

संजय भास्कर said...

........पढ़ाई जरुरी है

संजय भास्कर said...

Anuska Pari .....kaisi hai
.........mama ji der se aaye aapke blog par ....
................Love u

निर्मला कपिला said...

वाह बेटा अब तो अच्छा बच्चा बन गयी हो। खूब पढो लिखो। बहुत बहुत आशीर्वाद।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

ओह तो स्कूल भी शुरू हो गया ....खूब पढ़ो ...

फोटो बहुत प्यारे हैं ..टीचर किन्ना प्यार कर रही हैं न ... :):)